The Association of Strong Women Alone for Widows and Separated Women : Ekal Nari Shakti Sangathan, Udaipur, Rajasthan, India
-

एकल नारी शक्ति संगठन

"राजस्थान, भारत में
गरीब विधवा, परित्यकता
व अन्य एकल महिलाओं
का जन-आधारित
विशाल संगठन
जो संगठन व जागरूकता के
माध्यम से आगे बढ़ता ही जा रहा है..."

Ekal Nari Shakti Sangathan

एकल नारी शक्ति संगठन का ढाँचा


राज्य स्तरीय कमेटी:
प्रत्येक जिले से तीन संगठन सदस्य राज्य स्तरीय कमेटी की सदस्य के रूप में चुनकर आती है। यह कमेटी संगठन के लिये समस्त नीतियों व नियमों को निर्धारित करती है और संगठन के हित में निर्णय लेती है। राज्य सरकार की एकल महिलाओं से सम्बन्धित नीतियों एवं कानूनों मे आवश्यक परिवर्तन लाने व संशोधन करने के लिये एडवोकेसी करती है। साथ ही संगठन की मजबूति, कार्य की गुणवत्ता व मूल्यांकन कर संगठन को सही दिशा प्रदान करती है। राज्य कमेटी की वर्ष में तीन बार बैठकें होती हैं।
कार्यकारिणी कमेटी: प्रत्येक तीन वर्ष में 11 सदस्य निर्वाचित होते हैं जो कि राज्य स्तरीय कमेटी के निर्णयों को क्रियान्वित करते हैं और संगठन को नेतृत्व प्रदान करते हैं।
जिला स्तरीय कमेटी: जिले में प्रत्येक ब्लॉक से चार सदस्य जिला स्तरीय कमेटी के सदस्य होते है, कमेटी की वर्ष भर में तीन बैठकें होती हैं। जिला स्तरीय कमेटी जिले के प्रत्येक ब्लॉक कमेटी के कार्यों, समस्याओं एवं आँकड़ों का संकलन करती हैं।
ब्लॉक स्तरीय कमेटी: ब्लॉक की प्रत्येक ग्राम पंचायत से दो से तीन सदस्य ब्लाँक स्तरीय कमेटी के सदस्य होते हैं, ब्लॉक स्तरीय कमेटी की बैठक प्रत्येक माह पंचायत समिति स्तर तहसील स्तर पर होती है। यह कमेटी संगठन का प्रतिबिम्ब है। संगठन के सदस्यों द्वारा लाई गई समस्याओं एवं केस का समाधान , ग्राम पंचायत व ब्लॉक स्तर पर एकल महिलाओं के मुद्दे उठाना, परामर्श देना, साथ ही कमेटी सदस्य आपस में एवं गाँव तक नयी योजनाओ, कानूनों एवं नवीन जानकारी का आदान-प्रदान करते हैं।
ग्राम पंचायत स्तरीय बैठक: संगठन के विषय में जानकारी देने के लिये प्रत्येक ब्लॉक के ग्राम पंचायतों में ब्लॉक कमेटी के सदस्यों द्वारा बैठक ली जाती है। इस बैठक में एकल महिलाओं के अलावा पंचायत के स्थानीय लोगों की सहभागिता होती है, यदि सम्भव हो तो स्थानीय स्तर पर सामूहिक रूप से समस्याओं का समाधान किया जाता है। बैठक में संगठन के बारे में व स्थानीय मुददों पर चर्चा की जाती है।

सदियो से एक बोझ मुझ पर लादा गया, नाम तहजी़ब का देकर मुझे बांधा गया।

Women NGO